मेरी चचेरी बहन पूनम का प्यार

हेलो दोस्तो मेरा नाम सागर है. मैं आज अपनी ज़िंदगी का एक सच आप सब के लिए ले कर आया हूँ. ये मेरी एक अधूरी लव स्टोरी है, जिसमे मैने अपनी जान से सिर्फ़ एक बार सेक्स किया और हम दोनो हमेशा के लिए एक दूसरे के हो गये.

मुझे पूरी उमीद है की आपको मेरी ये कहानी पढ़ने मे बहुत मज़ा आएगा. तो चलिए फिर कहानी को जल्दी से शुरू करते है.

ये बात आज से दो साल पहले की है, जहाँ से ये सब शुरू हुआ था. मैं बचपन से अपनी गर्मियो की छुटटी अपने चाचा के घर मनाने जाता था. मुझे वाहा सच मे बहुत मज़ा आता था. उनकी एक बेटी थी, उसका नाम पूनम था. जब मैं उसके घर आता था 

तो वो मुझे देख कर खुश हो जाती थी.

हम दोनो बचपन से ही बहुत बनती थी. पूनम मुझसे 2 साल बड़ी थी, वो बचपन से ही बहुत सुंदर और क्यूट थी. खैर धीरे धीरे हम बड़े होने लग गये. मुझे सेक्स के बारे मे कुछ भी न्ही पता था. पर मुझे ये पता था की सेक्स लड़का और लड़की के बीच मे होता है

जब मैं 21 साल का हुआ और पूनम 23 साल की हुई. तो वो किसी परी से कम न्ही थी, वो सच मे काफ़ी खूबसूरत बन गई थी. उसे देख कर मैं सोचता था की काश ये मेरी गर्ल फ्रेंड होती तो मैं इसे सच मे बहुत प्यार करता. उसके बूब्स अब मोटे हो गये थे, जो बाहर की ओर निकले रहते थे.

उसके पतले पतले गुलाबी होंठ अब और भी सेक्सी रस्स से भर गये थे. उसके होंठो को देखते ही मूह मे पानी आ जाता था और उसके होंठो का रस्स पीने का मन होता था. उसकी पतली कमर ना जाने कैसे उसके गोल गोल और मोटी गांड
संभाल रही थी.

जब पूनम चलती थी तो उसकी गांड मटकती हुई बहुत सुंदर लगती थी. मन करता था भी दोनो च्छूतड़ो को अपने हाथो मे ले कर उन दोनो को मसल दू.. कयि बार तो ऐसा लगता था, बस अभी साली को घोड़ी बना कर इसकी गांड मे अपना लंड घुसा दू.

पर खैर मैं ऐसा सोच ही सकता था, क्योकि उसके घर पर उसे ही चोदना काफ़ी रिस्क से भरा हुआ था. फिर कुछ टाइम मेरे घर पर हमने मम्मी पापा की सालगिरा के लिए एक फंक्षन रखा. उस फंक्षन की तयारि के लिए पूनम दो दिन पहले ही आ गई.

उसको देख कर मैं खुशी से पागल हो गया. वो सच मे बहुत खूबसूरत लग रही थी. मैने तभी उसका हाथ पकड़ा और उसे सीधा अपने रूम मे ले गया. हम दोनो के बारे सब को पता था, की मैं और पूनम बचपन से ही एक दूसरे के अच्छे दोस्त है.

इसलिए किसी कोई शक न्ही हुआ, मैने अंदर आते ही डोर को अंदर से बंद कर लिया. फिर मैने उसे बेड पर बिठाया और खुद भी उसके साथ बैठ गया. फिर हम दोनो बातें करने लग गये. फिर मैने हिम्मत करके उससे पूछा.

मैं – पूनम अब तो तुम इतनी बड़ी हो गई हो, तुमने कोई अपना दोस्त बनाया या न्ही ?

पूनम – न्ही अभी तक कोई न्ही बनाया, पर तू आज ये सवाल मुझसे क्यू पूछ रहा है. मुझे तेरे इरादे ठीक न्ही लग रहे है.

मैं – क्या करूँ पूनम मैं तुम्हे बहुत पसंद करता हूँ. पर मुझे तुम ये बता दो की मैं तुम्हे पसंद हूँ या न्ही ?

पूनम ने मुझे जवाब दिया, वो मुझे आँख मार के जाने लगी. मैने उसका हाथ प्कड़ा और फिर से वो ही सवाल पूनम से पूछे.

पूनम – सागर आज तुम मुझसे ये क्यो पूछ रहे हो. मुझे तो कुछ समझ न्ही आ राहा है.

मैं – प्लीज़ तुम बता दो ना.

पूनम – अरे बुद्धु तुम मुझे अच्छे लगते हो इसलिए तो मैं तुमसे बात करना पसंद करती हूँ.

ये सुनते ही मैं खुश हो गया, और तभी मैने उसे आई लव यू काहा और उसके गोरे गाल पर एक किस कर दी. फिर हम दोनो रूम से बाहर आ गये, और फिर हम दोनो अपने अपने कामो मे लग गये.

शाम हम दोनो थोड़े फ्री से हुए, मैने दूर से ही उसे अपने रूम मे जाने का इशारा किया. पूनम थोड़ी देर बाद इधर उधर देख कर मेरे रूम मे चली गई. फिर मैने अपने होंठ उसके होंठो पर रखे और ज़ोर ज़ोर से उसके होंठो को मैं चूसने लग गया.

उसके होंठो का रस्स पीने मे सच मे मुझे बहुत मज़ा आरा था. मुझे ऐसा लग रहा था, मानो मैं कोई गुलाब चूस रहा हूँ. करीब 10 मिनिट तक हम दोनो एक दूसरे के होंठो को चूस्ते रहे और फिर उसने मुझे पीछे को धक्का दिया और मुझे दूर करके रूम से निकल कर भाग गई.

कसम उसके होंठो को चूस कर मेरी प्यास बुझ गई थी. मुझे उसके होंठो को चूसने का मन फिर से करने लग गया था. अगले दिन फिर शाम को सब लोग बाहर फंक्षन मे गये थे. घर पर मैं, पूनम और कुछ और लोग थे.

मैने फिर से उसे मेरे रूम मे जाने को कहा, पूनम थोड़ी देर मे मेरे रूम मे आ गई. उसके आते ही मैने उसे अपनी बाहों मे भर लिया और उसे ज़ोर ज़ोर से इधर उधर चूमने और चाटने लग गया. इस बार वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.
मैने मौका देख कर अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रखा जिससे वो सिहर उठी. उसने मेरा हाथ हटाने की कोशिश करी, पर मैं अब काहा मानने वाला था, इसलिए मैने उसका हाथ को दूर करके उसके दोनो बूब्स को पकड़ कर मसलने लग गया.

पूनम पागल सी होने लग गई और बोली – हा सागर मसल दो मेरे राजा ये तुम्हारे आहह आहह उ मम्मी आहह मस्लो और ज़ोर से मसल दो प्लीज़.

उसकी हालत देख कर मैं भी गरम हो गया और मैने उसका कुर्ता उपर किया और अपना हाथ अंदर करके उसके बूब्स बाहर निकाल दिए. मैने अपना मूह उसके बूब्स पर रखा और ज़ोर ज़ोर से उसके बूब्स को चूसने लग गया. उसके बूब्स सच मे काफ़ी सॉफ्ट थे.

मैं उसके बूब्स चूसने मे मस्त था, और पूनम मुझसे अपने बूब्स चुसवाने मे मस्त हो रही थी. तभी मुझे उसकी मम्मी यानी मेरी चाची की आवाज़ आई. उनकी आवाज़ सुनते ही मैने एक दम से पूनम को छोड़ दिया और अपनी अलमारी मे कुछ समान देखने का बहाना करने लग गया.

पूनम ने भी अपने कपड़े ठीक किए और वाहा से वो चली गई. अब हम दोनो मे पूरी आग लगी हुई थी. अब ये आग ज़रूर सेक्स करने से ही शांत होनी थी. खैर मैं भी अब फंक्षन मे जाने के लिए तयार होने लग गया. मैं अच्छे से तयार हो कर बाहर आया.

पर जब मैने पूनम को देखा तो उसे देखता ही रह गया, वो किसी कयामत से कम न्ही लग रही थी. उसने पटियाला पंजाबी ब्लॅक सूट डाला हुआ था. उपर और कमर से सूट एक दम टाइट था. जिस वजह से उसके मोटे मोटे बूब्स और कमर बहुत ही मस्त लग रही थी.

मुझे तो सच मे उसको देख कर मज़ा ही आ गया. मेरी आँख उस पर ही थी, फिर किचन मे गई. मैं भी झट से उसके पीछे भाग कर किचन मे चला गया. किचन मे उसके और मेरे सिवा और कोई न्ही था.

मैने तभी उसे दीवार से लगा कर उसे अपनी बाहों मे भर लिया. फिर मैने बिना कुछ बोले ही उसके होंठो को अपने होंठो मे लिया और ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गया. उसके होंठ का रस्स था की ख़तम होने का नाम ही न्ही लेरा था. फिर हम दोनो अलग हुए और फंक्षन मे चले गये.

रात को जब सब वापिस सोने के लिए जा रहे थे, तो मैने पूनम को अपने साथ सोने के लिए काहा पर उसने और उसकी मम्मी ने मेरे साथ सोने से मना कर दिया. मेरा दिल सा टूट गया, मैं अपने रूम मे चला गया. पर मुझे उस रात नींद न्ही आ रही थी.

आँखो मे पूनम का चेहरा और उसके नंगे बूब्स घूम रहे थे. मुझे लग रहा था की आज की रात शायद मुझे जाग कर ही काटनी होगी. खैर मुझे नींद न्ही आ रही थी, पर फिर भी मैं सोने की कोशिश कर रहा था. करीब 30 मिनिट बाद मुझे मेरे रूम का दरवाजा खुलता हुआ महसूस हुआ.

मैं उठा तो देखा मेरे रूम मे पूनम नाइटी डॉल कर आ रही थी. मैने उसे देखते ही बेड से उछल कर उसके पास गया. और मैने डोर को अंदर से बंद किया और उसे अपनी बाहों मे भर लिया, तभी पूनम बोली.

पूनम – सागर आई लव यू मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. ना जाने अब मैं कैसे तुम्हारे बिना जीऊंगी. तुमने मुझे 2 दीनो मे जीतना प्यार दिया है, शायद कभी मैने इतना प्यार पाया हो. इसलिए आज से मैं तुमने अपना सब कुछ दे रही हूँ.

मैं – आई लव यू सो मच मेरी पूनम. मैं वादा करता हूँ मैं भी जिंदगी भर तुम्हारा ही रहूँगा,

पूनम – मेरी जान हम दोनो के पास आज रात ही है. सागर तुमने आज रात मेरे साथ जो करना है वो कर लो. क्योकि मैं कल सुबह ही यहाँ से जाने वाली हू.

ये कहते ही उसने मेरे होंठो को चूसने लग गई. और ज़ोर ज़ोर से मेरे होंठो को अपने होंठो से दबा दबा कर चूस रही थी. उसके बाद मैने भी उसे अपनी बाहों मे अच्छे से पकड़ लिया और खूब अच्छे से उसके बूब्स को मसलने लग गया.

मेरे दोनो हाथ उसके पूरे जिस्म पर घूम रहे थे. मैने महसूस किया की पूनम बहुत गरम हो रही है. इसलिए मैने उसे अपनी गोद मे उठाया और उसे बेड पर गिरा दिया. फिर मैं उसके उपर आया और उसके होंठो और उसकी गर्रदन को चूसने लग गया.

मैने धीरे धीरे उसकी नाइटी उसके जिस्म से अलग कर दी. अब वो मेरे सामने पिंक ब्रा और पिंक पेंटी मे थी. सच मे साली क्या कयामत लग रही थी. उसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैने जल्दी से ही उसकी ब्रा और पेंटी भी जल्दी से उतार दी. अब वो मेरे सामने एक दम नंगी थी. मैने उसके नंगे बूब्स को देख कर पागल हो गया, मैने उसके बूब्स पर टूट पड़ा. फिर मैने उसके बूब्स को चूस्ते हुए उसके चिकने पेट पर आ गया.

मैं उसके पेट को अपनी जीब से चाटता हुआ नीचे उसकी चूत पर आ गया. उसकी चुत मे से पहले से ही रस्स टपक टपक कर नीचे गिर रहा था. मैने अपनी जीब से उसकी चूत को अच्छे से चाट चाट कर सॉफ कर दिया. फिर मैने अपनी जीब उसकी चुत मे डाली और ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को अपनी जीब से ही चोद्ने लग गया.

देखते ही देखते उसने मेरी जीब पर अपनी चूत का पानी एक बार और निकाल दिया. फिर मैने उसकी चूत का सारा पानी पिया और उसकी छूट को चाट चाट कर सॉफ कर दिया. अब मैने महसूस किया की पूनम ने मेरा लंड अपने हाथ मे पकड़ लिया.

मैं खड़ा हुआ और पूनम ने मुझे पूरा नंगा कर दिया. उसने मेरा लंड देखा और वो डर सी गई. पर जब मैने उसे समझाया तो उसने मेरा लंड अपने मूह मे ले लिया. उसे मेरा लंड पसंद आया और वो ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड को चूसने लग गई. वो मेरे लंड को अच्छे से चूस रही थी.

फिर मैने उसकी दोनो टाँगे खोली और अपना लंड उसकी चुत पर लगा कर उसकी चूत को अपने लंड से मसलने लग गया. जब वो थोड़ी सी मस्त हुई, तभी मैने अपना लंड उसकी चूत मे डॉल दिया. दर्द के मारे वो चिल्लाने लगी, पर तभी मैने उसके मूह पर अपना हाथ रख दिया.

थोड़ी देर मे वो शांत हुई और मैने फिर एक और धक्के से अपना पूरा लंड उसकी चूत मे उतार दिया. मैने नीचे देखा तो उसकी चुत मे से खून निकल रहा था. जिसे देख कर मैं जोश मे आया और मैने फुल स्पीड मे चुदाई शुरू कर दी. हम दोनो का पानी एक साथ उसकी चूत मे ही निकल गया.

उस रात मैने उसे 4 बजे तक जम कर 4 बार चोदा. फिर अगले दिन वो अपने घर चली गई. उस दिन के बाद हम दोनो दिन रात फोन पर बातें करने लग गये. पर 7 महीने बाद उसका मुझे फोन आया, वो फोन पर रो रही थी.
उसने मुझे खा की उसकी शादी तय हो गई है. मैं बहुत उदास हो गया, मैं उसकी शादी मे गया और उसे अपनी आँखो के सामने किसी और की होते हुए देखा.

पर आज भी मुझे उसकी बहुत याद आती है. आज मैं एक दम अकेला हूँ, मैने अभी तक उससे एक बार भी कॉंटॅक्ट करने की कोशिश न्ही करी. मुझे उमीद है आपको मेरी कहानी पसंद आई होगी.

तो चलिए जल्दी ही मिलता हूँ, अपनी एक और नयी कहानी के साथ. तब तक के लिए गुड बाइ टेक केयर.

Leave a Reply