नींद में अपनी साली की चूत फाड़ दी

मेरा नाम मोहित है और मैं एक फार्मासिस्ट हूं। मुझे जॉब करते हुए काफी समय हो चुका है लेकिन मैं अपनी जॉब से समय नहीं निकाल पाता हूं। फिर भी जब मुझे समय मिलता है तो मैं अपने बड़े भाई के साथ घूमने के लिए चला जाता हूं। उसकी और मेरी दोस्ती बहुत ही मजबूत है। हम दोनों एक साथ ही रहते हैं। क्योंकि वह सिर्फ मुझ से एक वर्ष ही बड़ा है और मेरी हर बात को वह बहुत ही अच्छे से समझता है। जिससे कि मैं भी उसके साथ एक दोस्त की तरीके से रहता हूं। हम जब भी शराब पीने बैठते हैं तो हम दोनों ढेर सारी बातें किया करते हैं। वह भी एक मेडिकल कंपनी में अकाउंट का काम संभालता है। वैसे तो हम दोनों को काफी कम समय मिल पाता है बैठने का लेकिन एक दिन हम दोनों ऐसे ही बैठे हुए थे और हम काफी सारी बातें कर रहे थे। तभी उस दिन उसने मुझे बताया कि मैंने अपने ऑफिस में एक गर्लफ्रेंड बना ली है

मैंने उसे बोला यह तो बहुत ही अच्छी बात है। मैंने जब उससे उसका नाम पूछा तो उसने मुझे उसका नाम बताया। उसका नाम कावेरी था और वह मुझे कह रहा था कि मैं उससे शादी करना चाहता हूं। इस बारे में घर पर बात करता हूं तो देखते हैं क्या वह लोग बोलेंगे। मैंने उसे कहा कि तुम इस बारे में घर में बात कर लो तो वह तुम्हारी शादी के लिए वह मान जाएंगे। अब वह मुझे एक बार कावेरी से मिलाने भी लेकर गए। वह बहुत ही सुंदर थी। मैं उससे मिलकर बहुत ही खुश हुआ और मैं कहने लगा कि तुम इससे शादी कर लो। ये तुम्हारे लायक है। यह बात सुनकर वह भी बहुत खुश हो गया और मैंने ही उसकी शादी की बात घर पर की। जिससे कि मेरे पिताजी भी बहुत खुश हुए और कहने लगे कि बेटा तुमने बहुत ही अच्छा फैसला लिया है और वह शादी के लिए तैयार हो गए।</p>
<p>जब हम लोग शादी के लिए तैयार हुए तो हमने बहुत ही धूमधाम से शादी की तैयारियां शुरू कर दी और हमने कार्ड भी छपवा दिए। हमने अपने सारे रिश्तेदारों को कार्ड बांटे थे ।क्योंकि यह हमारे घर में पहली ही शादी थी। इसलिए हम नहीं चाहते थे कि इसमें किसी भी तरीके से कोई कमी रह जाए। हम सभी लोग बहुत खुश थे। जिस दिन शादी थी उस दिन मैंने बहुत ज्यादा एंजॉय किया और भाभी की बहन के साथ हम लोगों ने बहुत ही मजाक मस्ती की। उसका नाम रुचि है और वह भी दिखने में बहुत सुंदर है और बहुत ही मजाकिया किस्म की लड़की है। मुझे वह बहुत ही अच्छी लगी। जिस तरीके से उसका व्यवहार और बात करने का तरीका था वह मुझे काफी पसंद आया। अब मेरे भाई की शादी भी हो चुकी थी और मेरे पिताजी चाहते थे कि मैं भी अब शादी कर लूं लेकिन मैं अभी शादी के विचार में नहीं था। क्योंकि मुझे थोड़ा समय चाहिए था और मैं अपने काम में ऐसे ही बिजी रहा। धीरे धीरे समय बीतता चला गया। एक दिन मेरे भाई ने मुझे कहा कि हम लोग कावेरी के घर चलते हैं। क्योंकि उसकी मां हमें वहां पर बुला रही है। तो तुम भी मेरे साथ ही चलो। मैंने कहा कि ठीक है।</p>
<p>मैं ऑफिस से छुट्टी ले लेता हूं और तुम्हारे साथ चलता हूं। अब हम दोनों भाई अपनी भाभी के साथ उनके घर पर चले गए। कावेरी भाभी की मां बहुत ही अच्छी है। उन्होंने हमारी बहुत ही खातिरदारी की और हमें बहुत ही अच्छे से अपने घर पर रखा। तभी रुचि भी आ गई। वह पहले तो मेरे भैया से बात कर रही थी। फिर उसके बाद वह मुझसे भी काफी देर तक बात करने लगी। वह पूछने लगी आपका काम कैसा चल रहा है। मैंने उसे बताया कि बहुत ही अच्छा चल रहा है। अब हम दोनों बात करते-करते छत पर चले गए और सब लोग नीचे बैठे हुए थे। हम लोग काफी देर तक साथ में ही बात कर रहे थे। उसके बाद हम नीचे आए तो मेरे भैया भाभी, मैं और रुचि हम चारो साथ में बैठकर बातें करने लगे। थोड़ी देर बाद मेरी भाभी अपनी माँ के साथ गयी। भाभी अपनी मां के साथ काम करने के लिए गयी और वह लोग रात के खाने की तैयारी करने लगे। रात को उन्होंने बहुत सारे व्यंजन बनाए थे और हमारी बहुत ही अच्छे से खातिरदारी की। हम लोगों ने बहुत ज्यादा खाना खा लिया था। मैं खाना खाने के बाद छत में भी टहलने चला गया और काफी देर तक छत में ही घूमता रहा। छत में बहुत ही अच्छी हवा चल रही थी। उसके बाद मैं छत में ही लेट गया और मेरी आंख पता नहीं कब लगी मैं वही सो चुका था। थोड़ी देर बाद जब मेरी आंख खुली तो मैने देखा मैं तो छत में ही सो रहा हूं और मुझे लगा कहीं वह लोग बुरा ना मान जाए तो मैं जल्दी से नीचे चला गया।</p>
<p>जब मैं नीचे गया तो सब लोग सो रखे थे और मैं जाकर एक कमरे में सो गया। मैंने वहां देखा था वहां पर कोई सो रखा था और उसने अपने ऊपर चादर ओढ़ी हुई थी इसलिए मुझे पता नहीं चल रहा था वहा कौन सो रखा है। मैंने सोचा नींद बहुत ज्यादा आ रही है तो यहीं सो जाता हूं और मैं ऐसे ही लेट गया अब मैं सोने लगा तो थोड़ी देर बाद मैंने उसे पकड़ना शुरू कर दिया। मेरे हाथों पर स्तन लग रहे थे मैंने देखा कि यह तो कोई लड़की है और मुझे बहुत ही अच्छा लगने लगा। जब मैं उसके स्तनों को दबाने लगा थोड़ी देर बाद जब उसने अपने मुंह से चादर हटाई तो मैंने देखा वहतो रुचि है और मैंने ऐसे ही उसे दबाना शुरु कर दिया। मैंने उसके स्तनों को बड़े अच्छे से दबाया और उसकी योनि को भी मैंने बड़ी तेजी से दबा दिया। जिससे कि उसकी उत्तेजना बढ़ गई अब उसने भी मुझे देख लिया और वह भी बहुत ज्यादा उत्तेजित हो उठी थी। मैंने उसके होठों को अपने होठों में लेकर चूसना शुरू किया मै उसे किस कर रहा था मुझे बहुत ही मजा आ रहा था। जब मैं उसे किस करता जाता मुझे ऐसा लगता है कि उसके होंठ बहुत ही ज्यादा नरम और मुलायम थे। मैंने उसकी सलवार के अंदर से हाथ डालते हुए उसकी योनि को दबाना शुरु किया और ऐसे ही उसकी योनि के अंदर से पानी निकलने लगा। मैं अब उसकी चूत के अंदर उंगली डालने लगा मैंने उंगली को पूरा अंदर तक घुसा कर रख दिया और उसके मुंह से सिसकियां निकलने लगी। वह बड़ी तेजी से सिसकियां लेने लगी और मैं अपनी उंगलियों को अंदर बाहर करने लगा। उसकी चूत से कुछ ज्यादा ही पानी बाहर निकलने लगा और मैंने भी उसके स्तनों को अपने हाथों से बहुत तेज दबाना शुरु कर दिया।</p>
<p>मैं इतनी तेजी से उसके स्तनों को दबा रहा था कि उसका शरीर पूरा गर्म हो चुका था और मैं उसके होठों को भी अपने होठों में ऐसे ही लिए जा रहा था। थोड़ी देर बाद उसकी उत्तेजना और अधिक हो गई तो वह बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी। मैंने तुरंत अपने लंड को उसके अंदर घुसेड़ दिया और उसकी सलवार को पूरा उतारते हुए फेंक दिया। मैंने जैसे ही उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डाला तो मुझे बहुत मजा आने लगा उसकी योनि बहुत ज्यादा टाइट और मुलायम थी। मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे मैं किसी कच्ची कली की जवानी के मजे ले रहा हूं। मैं ऐसे ही उसके दोनों पैरों को पकड़कर धक्के देने लगा और मैं उसके स्तनों को भी अपने मुंह में ले रहा था। मैंने उसके पेट में भी अपनी जीभ से चाटना शुरू किया और बड़ी देर तक मैं ऐसे ही उसे चाट रहा था। उसकी चूत से और तेज पानी निकलने लगा और मैं उसे और तीव्र गति से च जाता थोड़े समय बाद उसका झड़ गया और वह अपने पैर खोल कर ऐसे ही मेरे आगे लेटी रही लेकिन मैंने उसे छोड़ा नहीं और ऐसे ही बड़ी तीव्र गति से चोदे जा रहा था और उसके जीवन को सफल बना रहा था। मैंने इतनी तेज तेज झटके मारना शुरू किया कि उसके गले से आवाज निकलने लगी और वह अलग अलग तरह की आवाज निकालने लगी। अब मैंने उसके दोनों पैरों को कसकर पकड़ लिया और दोनों को आपस में मिलाते हुए उसे चोदना शुरू किया। मैं इतनी तेजी से धक्के दे रहा था उसका शरीर बहुत ज्यादा गर्म हो गया था और उसकी गर्मी से मैं पसीना-पसीना होने लगा। उसने अपनी चूत को बहुत ज्यादा टाइट कर लिया और थोड़े समय में ही मेरा वीर्य गिर  गया मेरा वीर्य उसकी योनि के अंदर बड़ी तेजी से जा गिरा।