चुदाई एक खेल से ज्यादा भावना है

किसान हो तुम लोग सब ठीक बा ना | अगर नहीं बा तो हमसे बोलो हम ठीक करबतानी | अबे सब चुतियापा है ऐसा कुछ नहीं होता खुद की मुसीबत खुस ही झेलनी होती है | इसलिए ना किसी से कहना और हमेशा खुश रहना | यही सिद्धांत है अपनी लाइफ का | मुझे नहीं पता अब आप लोग इसको कितना मानते हो पर मैंने तो सीख लिया है और आप भी इसको सीख लो तो ये आगे भी बड़ा काम आएगा | मैं आप सब से ये कहना चाहता हूँ कि अपनी लाइफ खुद तक सीमित रखोगे तो सब कुछ अच्छा मिलेगा और सब कुछ ठीक रहेगा | मैंने हमेशा से यही चाहा है कि सब कुछ सही रहे और इसके आगे मैंने कुछ सोचा नहीं | अगर आप मुझे कहोगे मैं हिन्दू हूँ तो नहीं साहब मैं बस एक इंसान हूँ और इंसानियत का धर्म निभाता हूँ

जन्म उस खुदा ने दिया पाला पोसा मुझे राम ने, मुझे तो कोई फर्क समझ नहीं आता गीता और कुरान में |</p>
<p>इसलिए आप भी इंसान बनो और इस जहाँ को जन्नत बना दो और ज्यादा बाटें ना करते हुए आपको मैं बता दूँ कि मेरा नाम रवि खान है और मैं आपको अपनी एक अजीब सी दास्ताँ सुनाने आया हूँ |</p>
<p>ये सब शुरू हुआ कुछ महीने पहले जब मैं पंडित अर्जुन मिश्र का एक लौटा पुत्र हुआ करता था और हरिद्वार में अपना पनिताई का काम विधि विदां पूर्वक करता था | पर ना जाने कब कहा किसका मिलन किस्से हो जाए ये कभी कोई नहीं जानता | मैंने भी ऐसा कुछ नहीं सोचा था बस अपने काम और ध्यान में लगा रहता था | पिताजी बीमार चलते थे इसलिए उनका भी सारा काम मुझे देखा रहता था | मेरे ऊपर कई जिम्मेदारियां थीं और उनका निर्वाह मैं स्वयं करता था क्यूंकि पंडिताइन अभी तक जिंदगी में आयीं नहीं थी और पिताजी कई जगह बात चला रहे थे | बड़ी मुश्किल से एक साल बाद हमे एक रिश्ता मिला और लड़की काफी गुनी थी वो उनका नाम हेमलता था और वो कृष्ण भक्त थीं | हमने सोचा चलो अब क्या हुआ इनसे हमारा लग्न है तो हम इनसे ही शादी करेंगे | सब जम गया और सब कुछ तय भी हो गया | 6 महीने बाद का मुहूर्त निकला लग्न का और उसके अगले महीने शादी का | हमे तो ऐसा लग रहा था जैसे गंगा मैय्या हमपर अपनी कृपा बरसा रहीं थीं | उसके बाद हमने सोचा हम उनसे मिल आयें पर उसके लिए हमे बनारस जाना पड़ा |</p>
<p>वहां जब हम उनसे मिले तो मंत्रमुग्ध हो गए और ना जाने कैसे कैसे सपने सजा बैठे | नहीं हमारा मतलब सपने सब सही थे बस हमने जो देखा था वो हमे स्वप्न की भाँती प्रतीत हो रहा था क्यूंकि सब पहली बार था | बड़ी ही सुन्दर और सुशील कन्या थीं वो | और उनके साथ रहे तो ऐसा लगा ही नहीं जैसे हम उनसे पहली बार मिल रहे हैं | उसके बाद मैंने सोचा चलो भाई अब इनसे मुलाकात हो गयी है अब इनसे अपने मन की बात बता दी जाए | जैसे ही हमने बात शुरू की उतने में खबर आई कि दंगे हो गए हैं और सबको घर के अन्दर रहना पड़ेगा | हमने जैसे तैसे उनको घर पहुँचाया और कहा हम खुद को संभाल लेंगे | उन्होंने कहा अप कहाँ जा रहे हैं हमने कहा बस एक अधूरा काम है हमारे पिताजी का लेखा हम घाट पर भूल गए हैं जल्द ही लौट आयेंगे | हम जैसे तैसे बचते हुए घाट तक पहुंचे तो देखा पुलिस लगी थी | पर हम चुपके से पीछे नदी में उतरे और तैरते हुए घाट पर गए और वो पोथी उठा लाये | रास्ते में जाते जाते हमे एक और कन्या मिली जो कि मुसलमान थीं और उन्हें शायद कोई मदद के लिए नहीं मिला इसलिए हमने कहा आप हमारे साथ चलिए नहीं तो दिक्कत हो जाएगी | हमने उनको एक सुरख्सित स्तन पर पहुँचा दिया | उसके बाद जब हम अपनी उनके घर में थे तब हमे याद आया यार अब सब ठीक है हालात काबू में हैं अब चलके देख लिया जाए वो महिला कैसी हालत में है | हम निकल पड़े वहीँ से उनको देखने के लिए |</p>
<p>उसके बाद जो हुआ वो बड़ा रोचक है | क्यूंकि जब हम उनके पास पहुंचे तो वो हमसे चिपक के रोने लगीं और कहने लगीं सब खत्म हो गया कुछ नहीं बचा | हम उनको हटाना चाह रहे थे क्यूंकि वो गैर मज़हब की थीं पर हमने उनकी हलक को समझा और कहा आप हमारे साथ हरिद्वार चलिए वहां आपको किसी काम पर लगवा देंगे | हम पंडिताइन के पास गए और उनसे ये सब बताया तो उन्होंने हमारे होंथूं पर एक चुम्बन चिपका दिया और कहा आप जैसा पति सबको मिलना चाहिए पंडित जी | हमने कहा बस आपकी मेहेरबानी है पंडिताइन जी | अब हमारी सगाई की तारीख आ गयी और हम एक सूत्र में बंधने के लिए तैयार हो गए | वो महिला भी अपने काम में मगन थी और उसको कोई दिक्कत नहीं थी | हमारा ब्याह भी बस निकट ही था और हम सब बड़े उल्लास के साथ तैय्यारी में लगे हुए थे | उसके बाद हमारा ब्याह का दिन आ गया और हेमलता बड़ी खुश थीं | वो महिला भी मौजूद थी हमारे ब्याह में | उसके बाद जब सब आ गए और सबने उसको देखा तो भड़क गए हमने सबको समझाया और कहा देखिये ये सब नॉर्मल बात है वो हैं तो आखिर इंसान मज़हब का इसमें क्या दोष | सबने कहा नहीं ऐसा नहीं होता आप ऐसा नहीं करते ये नहीं चलेगा आपको अपनी पंडिताई से हाथ धोना पड़ सकता है |</p>
<p>मेरा दिमाग हुआ ख़राब और मैंने कहा माँ का भोसड़ा पंडिताई का और माँ की चूत तुमाहरी | मेरा नाम आज से रवि खान | सब चौंक गए पर मेरी पत्नी ने नेरा समर्थन किया और पिताजी ने भी | बस मुझे और क्या चाहिए था | अब हमारा विवाह सम्पान हो गया और मैंने शादी मंदिर में नहीं मस्जिद में की | किसी को कोई आपत्ति नहीं हुई | उसके बाद जबब हम सुहागरात के लिए गए तब पत्नी जी ने कहा सुनिए आप बहुत अच्छे हैं आप ऐसे ही रहिएगा हमेशा | मैंने कहा जी हम ऐसे ही रहेंगे | उसके बाद हमारा काम चालु हुआ और करीब दो ढाई घटे तक हम दोनों एक दुसरे से बात करते रहे और उसके बाद हम दोनों एक दुसरे में खोने लगे | फिर क्या था हमारी पत्नी ने हमे फिर से एक चुम्बन प्रदान कर दिया और हमारा मन सातवें आसमान पर पहुँच गया उसके बाद हमने भी उनको चुम्बन दे दिया | अब सबको पता है इसके बाद कपडे खुलते हैं पर ऐसा नहीं हुआ हमने एक दुसरे को गले से लगा लिया और एक दुसरे ओ सहलाते रहे | उसके बाद हमने अपनी पत्नी का पल्लू नीचे किया और उनके माथे पर एक चुम्बन दिया और उसके बाद उनके गले पर चूमने लगे | वो भी हमे पकड़ के पीठ सहलाने लगीं | उसके बाद हमने उनकी साडी को हटा दिया और उनके ब्लाउज के ऊपर से ही उनके उभारों को मसलने लगे और चूमने लगे | फिर हम दोनों के जोश में थोड़ी सी वृद्धि हुई और हम आगे की और बढे |</p>
<p>हमारी पत्नी ने हमारा पयजामा खोला और हमने उनका लहंगा उतार दिया और वो बिलकुल नग्न अवस्था में हमारे सामने थी बस एक अंगिया थी उनके बदन पर जिसे हमने बाद में खोल दिया | हम भी पूरे नग्न हो गए और उन्होंने हमारे लंड को पकड़ा और कहा पंडित जी ये तो बहुत बड़ा और मोटा है | हमने कहा आपके लिए किया है इसको ऐसा अब आपका है आप जो चाहे करिए | उन्होंने कहा हमे नहीं पता क्या करना है तो हमने कहा चूसिये इसको | उन्होंने उसको चूसना चुरू किया और जैसे ही उन्होंने चूसना शुरू किया हम सिसकियाँ भरने लगे | आआआआ ऊऊऊ ऊउम्म्म ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ आअह्ह्ह्ह आआआआ ऊऊऊ ऊउम्म्म ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ आअह्ह्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी हमारे मुँह से | उसके बाद पत्नी के उभार पर हमने हाथ रखा और उनको मसलने लगे | जब हमारा वीर्य निकल गया तब हमने उनके उभारों को चूसना शुरू किया और वो आआआआ ऊऊऊ ऊउम्म्म ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ आअह्ह्ह्ह करने लगीं | उसके बाद हमे उनकी चूत पर अपना मुँह रखा और कहा अब देखिये मज़ा | हमने उनकी चूत को चाटना शुरू कर दिया और उसके बाद वो भी सिस्कारियां लेने लगीं और हमे उत्साहित रखने के लिए अपनी चूत को हमारे मिंह में घुसाने लगीं |</p>
<p>जब हम उन्हें चाट रहे थे तब वो आआआआ ऊऊऊ ऊउम्म्म ऊउफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ आअह्ह्ह्ह कर रहीं थी | उसके बाद हमने कहा अब हम आपको पेलेंगे और इतना कहके हमने उनकी चूत में लंड का प्रवेश करवा दिया और वो चिल्लाने लगीं | उनकी चूत टाइट थी और हल्का सा खून भी निकला था | पर हमने उन्हें पहली रात आराम से चोदा और धीरे धीरे उनकी चूत में पूरा लंड डाला | उसके बाद हमारी जिंदगी आज तक अच्छी चल रही है और बच्चे भी हैं

कमसिन बदन मेरे इंतजार मे था

मेरा नाम राजेश है मैं अहमदाबाद का रहने वाला हूं। मेरी अमदाबाद में शॉप है। यह शॉप पहले से मेरे पिताजी देखते थे लेकिन जब से उन्होंने दुकान में आना कम किया है तब से मैंने ही काम शुरू कर दिया। वह मुझे कहने लगे कि बेटा अब तुम्हे ही आगे काम संभालना है और इस काम में तुम जितना मेहनत करोगे उतना ज्यादा अच्छा है। मैंने काफी सालों की मेहनत से इस दुकान को अच्छा चलाया है। मेरी दुकान पर जितने भी कस्टमर आते थे मैं उनके साथ बड़े अच्छे से व्यवहार करता हूं और वह लोग हमेशा ही मुझ से सामान खरीद कर लेकर जाते हैं। मेरे पिताजी के भी काफी पुराने कस्टमर हैं वह भी मेरे पास ही आते हैं। मैं हर साल घूमने का प्लान बनाता हूं और इस बार मैं सोचने लगा कि क्यों ना अपने मम्मी पापा को भी साथ में ले जाया जाए। मैंने अपनी पत्नी सीमा से बात की और कहा कि मैं सोच रहा हूं इस बार मम्मी पापा को भी अपने साथ घूमने के लिए ले जाया जाए। वह कहने लगी ठीक है यदि आप ऐसा कोई प्लान बना रहे हैं तो वह लोग भी हमारे साथ चलेंगे तो उन्हें भी बहुत खुशी होगी।</p>

<p>मेरी पत्नी पूछने लगी लेकिन हम लोग घूमने कहां जाएंगे? मैंने उसे कहा हम लोग केरला जाने वाले हैं। मैंने सुना है कि वहां पर काफी अच्छा है और अभी कुछ दिनों पहले दिनेश का परिवार भी वहां गया था। दिनेश मेरे मामा का लड़का है। मैंने भी सारी तैयारियां कर ली थी और मेरी पत्नी तो लगातार दिनेश की पत्नी से संपर्क में थी और वह उससे पूछ रही थी आप लोग कहां कहां घूमने गए थे? मेरी पत्नी ने तो सारा नक्शा ही अपने दिमाग में बना लिया और वह मुझे कहने लगी कि हम लोग यहां घूमने जाएंगे। मैंने रीमा से कहा कि तुम सब्र रखो हमें वहां पहुंचने तो दो। तुमने तो लगता है हमें घर बैठे ही सारा केरला घुमा दिया। हम लोग फ्लाइट से जाने वाले थे और जिस दिन हम लोग घर से निकले उस दिन हम सब लोग बहुत ही एक्साइटेड थे। मैं तो इस बात से खुश था कि मेरे साथ मेरे मम्मी पापा भी आ रहे हैं। मेरे पापा मम्मी पहली बार ही फ्लाइट में बैठ रहे थे इसलिए उन्हें थोड़ा डर लग रहा था परंतु मैंने उन्हें कहा कि आप डरिए मत ऐसा कुछ भी नहीं होगा और जब वह फ्लाइट में बैठे तो उन्हें बहुत अच्छा लग रहा था। उसी फ्लाइट में एक लड़की थी। उसने चश्मे पहने हुए थे। वह बार बार मेरी तरफ घूर कर देख रही थी। जब मैं अपनी सीट में बैठ गया तो वह मुझसे पूछने लगी क्या यह आपके मम्मी पापा हैं? मैंने उसे कहा हां यह मेरे मम्मी पापा हैं।</p>
<p>वह कहने लगी आप अपने माता पिता का कितना ध्यान रखते हैं। आजकल कोई अपने माता पिता का इतना ध्यान नहीं रखता। मैंने उससे कहा क्यों तुम ऐसा क्यों कह रही हो? वह कहने लगी मैं एक सामाजिक संस्था से जुड़ी हूं और वहां पर मैं बुजुर्गों की सेवा करती हूं। वहां पर कई ऐसे बुजुर्ग लोग आते हैं जिनको कि उनके बच्चे घर से निकाल देते हैं। मैंने उससे पूछा तुम कहां रहती हो? वह कहने लगी मैं यही अहमदाबाद में रहती हूं लेकिन अक्सर मैं काम के सिलसिले में इधर-उधर जाती रहती हूं। उसने मुझसे हाथ मिलाया और अपना नाम बताया। उसका नाम रोहिणी है। रोहणी मुझे जाने लगी आप कहां जा रहे हैं? मैंने उसे कहा मैं केरला जा रहा हूं। वह कहने लगी मैं भी कुछ दिनों के लिए वहीं पर हूं। हम लोग वहां पर एक सेमिनार करवाने वाले हैं। मैंने कहा चलो यह तो अच्छी बात है। अगर तुम्हें समय मिले तो तुम मुझे मिलना। मैंने उसे अपने दुकान का विजिटिंग कार्ड दे दिया। वह कार्ड देखते ही मुझे कहने लगी क्या आप कि ज्वेलरी की शॉप है? मैंने उसे कहा हां मेरी ज्वेलरी की शॉप है। कभी तुम आना जब तुम्हें समय मिले। वह कहने लगी जरूर क्यों नहीं। मैं पक्का आऊंगी और अब हम लोग पहुंच चुके थे। मैं जिस होटल में रुका था वहां का स्टाफ बहुत ही अच्छा था और वहां के मैनेजर से तो मेरी दोस्ती ही हो गई थी। मुझे कोई भी छोटी मोटी चीज की जरूरत होती तो मैं उससे ही पूछ लेता और वह मेरी मदद कर देता। हम लोगों ने केरला में काफी इंजॉय किया। एक दिन मेरे फोन पर रोहणी का फोन आया। वह कहने लगी सर यदि आपके पास वक्त हो तो आप हमारे सेमिनार में आ जाइए। मैंने सोचा मैं तो यहां घूमने आया हूं मैं उसके सेमिनार में जाकर क्या करूंगा लेकिन उसने मुझे बुला ही लिया।</p>
<p>मैंने अपनी पत्नी से कहा कि तुम मम्मी-पापा का ध्यान रखना मैं कुछ समय बाद आता हूं। यह कहते हुए मैं जब रोहिणी के बताए पते पर पहुंचा तो वहां पर वह सेमिनार करवा रही थी और उसके साथ में काफी लोग भी थे। जब सेमिनार खत्म हुआ तो मैंने उसे कहा तुम तो बड़ी ही समझदार हो और तुमने जिस गर्मजोशी से आगे से बोलना शुरू किया मुझे बहुत अच्छा लगा। वह कहने लगी आप भी हमारे साथ जुड़ जाइए। मैंने उसे कहा ठीक है मैं तुम्हें अहमदाबाद में मिलूंगा और उसके बाद मैं इस बारे में तुमसे बात करूंगा। मैंने उसे कहा यदि आज तुम फ्री हो तो शाम को तुम हमारे साथ ही डिनर पर आ जाओ। वह कहने लगी ठीक है मैं शाम को आ जाऊंगी लेकिन मेरे पास कोई कन्वेंस नहीं है। मैंने उसे कहा मैं तुम्हें लेने के लिए शाम के वक्त आ जाऊंगा। उसने मुझे अपने होटल का एड्रेस दे दिया था शाम के वक्त जब मैं उसके होटल में गया तो मैं उसके रूम में पहुंच गया। जैसे ही मैं उसके रूम में पहुंचा तो वहां पर मुझे कोई दिखाई नहीं दे रहा था।</p>
<p>मैं रूम में ही बैठा था जैसे ही रोहणी बाथरूम से बाहर निकली तो वह पैंटी और ब्रा में थी उसने पिंक कलर की पैंटी ब्रा पहनी थी जिसमे उसका बदन बडा ही अच्छा लग रहा था। उसके बदन को देखकर मेरा लंड एकदम तन कर खड़ा हो गया मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाया शायद वह भी मुझे देखकर डर गई थी और वह अपनी जगह पर ही खड़ी हो गई उसका बदन गिला था। मैंने जब उसकी कमर पर अपने हाथ को रखा तो मेरा लंड और भी ज्यादा बड़ा होने लगा। मैंने उसके नरम होंठों को जब चूसना शुरू किया तो मुझे बहुत अच्छा लगने लगा मैं उसके होठों को बड़े अच्छे से चूस रहा था और मेरा लंड भी एकदम तन कर खड़ा हो गया। मैंने उसकी पैंटी और ब्रा को उतार दिया। जब मैंने उसके स्तनों को अपने हाथों से दबाया तो वह पूरी तरीके से गर्म हो गई और मैंने उसके स्तनों को काफी देर तक चूसा। जब मैंने उसकी योनि को चाटना शुरू किया तो उसे मजा आ गया मैं उसे उठाते हुए बिस्तर पर ले गया और मैंने उसे लेटा दिया। मैंने उसके स्तनों पर अपने लंड को रगडना शुरू कर दिया। जब उसने मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ते हुए अपने मुंह के अंदर लिया तो मुझे और भी ज्यादा मजा आ गया। वह मेरे लंड को सकिंग करने लगी और बड़े अच्छे से चूस रही थी जब वह अपने गले तक मेरे लंड को लेती तो मुझे और भी ज्यादा मजा आ जाता मैंने भी उसके गले तक अपने लंड को डालना शुरू कर दिया था। जब मैंने उसकी योनि पर अपने लंड को लगाया तो मचलने लगी। मैंने उसके दोनों पैरों को कसकर पकड़ लिया मैंने भी धीरे धीरे अपने लंड को उसकी योनि के अंदर प्रवेश करवा दिया। जब मेरा लंड उसकी योनि के अंदर प्रवेश हुआ तो मुझे बहुत ही अच्छा महसूस होने लगा और उसे भी मजा आ गया उसके चेहरे पर एक अलग ही खुशी के भाव थे। वह मुझे कह रही थी बस अब तो आप मुझे पेलते रहो मैंने भी बड़ी तेज गति से धक्के देने शुरू कर दिए। उसकी योनि इतनी ज्यादा टाइम थी कि मुझे उसे चोदने में बड़ा मजा आता। मैंने उसकी लंबी टांगों को अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और बड़ी तेजी से उसकी चूत मारी। मैंने जब अपनी जीभ उसके स्तनों पर लगाई तो मुझे बहुत मजा आ गया मैंने उसे बड़ी तेजी से पेलना शुरू कर दिया। मैं उसे पूरे जोश में चोद रहा था और वह भी अपने मुंह से सिसकियां ले रही थी। वह मुझे कहने लगी आप ऐसे ही मुझे धक्के देते रहो। मैंने उसकी चूत का भोसड़ा बना कर रख दिया था जैसे ही मेरा वीर्य गिरने वाला था तो मैंने रोहणी के मुंह पर अपने लंड को लगा दिया। उसने मेरे लंड को अपने मुंह से चूसना शुरू कर दिया और जैसे ही मेरा वीर्य उसके मुंह के अंदर गिरा तो मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ।</p>