कॉंडम के साथ चूत फ्री

हेल्लो दोस्तो, मैं विशाल वर्मा आज एक और मस्त कहानी ले कर आया हूँ. दरअसल ये कोई कहानी न्ही है, ये एक सच्ची घटना है. जो मेरे साथ पिछले महीने ही हुई है. इस कहानी मे एक एक बात एक दम सच्ची है.

तो प्लीज़ मेरी कहानी को थोड़ा सा सीरीयस हो कर ही पढ़े.

मेरा नाम विशाल है, मैं देल्ही के पास एक छोटे से शहर मे रहता हूँ. मेरी उम्र 28 साल है, और मेरी शादी हो रखी है. मेरी शादी को 2 साल हो चुके है. मैं दिखने मे काफ़ी हॅंडसम और गुड लुकिंग और एक असली मर्द हूँ.

मैं अपने आप को असली मर्द इसलिए कह रहा हूँ, क्यूकी मेरा लंड 8 इंच से भी लंबा है. और मैने शादी से पहले अच्छी से अच्छी चूत को शांत किया है. शादी से पहले मैने ना जाने कितनी चूते मारी है.

खैर ये बातें बहुत पुरानी हो गई है. मैं आपको आज की बात बताता हूँ. दरअसल मुझे शुरू से कॉंडम लगा कर चूत मारने मे बहुत मज़ा आता था. इसलिए मैं शादी के बाद भी कॉंडम लगा कर अपनी वाइफ को चोदता था.

मेरी वाइफ भी मुझसे बहुत प्यार करती थी. उसका प्यार देख कर ही मैने बाहर मूह मारना बंद कर दिया. अब मैं पूरी तरह से अपनी वाइफ का ही बन कर रह गया. मुझे शुरू शुरू मे काफ़ी दिक्कत हुई, पर जब मेरी वाइफ ने मुझे अपना प्यार दिया, तो मैं अपनी वाइफ का ही हो कर रह गया.

मैं एक छोटा सा बिज़्नेस करता हूँ. इसलिए मैं और मेरी फॅमिली काफ़ी खुश थी. मेरे घर के रास्ते मे एक मेडिकल स्टोर आता था. जहाँ से मैं 2 या 4 दिन मे एक बार ज़रूर कॉंडम लेता था.

उस शॉप का मालिक करीब 40 साल का था. उसे काफ़ी अच्छे से पता था, की मुझे कौन सा कॉन्डम चाईए होता था. इसलिए वो मुझे देखते ही मेरा पॅकेट तयार करके मुझे चुप चाप दे देता था

उस शॉप के मालिक की वाइफ भी कभी कभी उसकी शॉप पर उसकी हेल्प करने के लिए आ जाती थी. उसे देख कर मेरी नियत खराब हो जाती थी, क्योकि वो साली थी ही इतनी सुंदर .

उसकी उम्र करीब 33 साल थी, इतनी उम्र मे भी वो एक कमाल की लगती थी. वो अकसर साड़ी डालती थी. जिसमे वो और भी मस्त लगती थी, उसका फिगर करीब 36-30-38 का था. अब आप ही सोच सकते है, की साली क्या कमाल की चीज़ होगी.

उसका नाम मनीषा था, वो हमेशा थोड़ा बहुत मेकअप लगा कर रखती थी. वो ज़्यादातर रेड कलर की लिपस्टिक और आँखो मे काजल लगाती थी. मेरी नज़र ना चाहते हुए भी मैं उसे देखने लग जाता था.

मैं उस शॉप पर हमेशा अपनी होंडा सिटी मे जाता था. मैने काफ़ी बार ये बात नोटीस करी, की उसकी वाइफ मनीषा मुझे देखती थी. और जब मैं शॉप पर आता था, तो वो मुझे अपने पति के पीछे खड़ी हो कर मुझे छुप छुप कर देखती थी.

मैं ये बात अब अच्छे से जान गया था, की कही ना कही कुछ गड़बड़ है. कुछ ही दीनो बाद गर्मिया शुरू हो गई, और मेरी वाइफ ने अपने घर कुछ दीनो के लिए जाने को काहा. अब भला मैं उसकी बात को केसे टाल सकता था, उसने कल सुबह जाना था.

इसलिए मैं रात को आते हुए कॉंडम लेने के लिए उसी शॉप पर चला गया. सॅटर्डे का दिन था. सुबह मेरी वाइफ ने अपने घर जाना था. इसलिए मैं रात को अपनी वाइफ को जम कर चोदना चाहता था. मैं कॉंडम लेने के लिए शॉप पर गया.

वाहा मैने देखा वो शॉप का मालिक न्ही था, बल्कि उसकी वाइफ थी. मैं शरमाते हुए उसके पास गया, और वाहा खड़ा हो गया. अब मुझे समझ न्ही आ रहा था, की मैं केसे कॉंडम मांगू.

मनीषा – हा जी बोलिए क्या चाहिए आपको ?

मैं – वो, अच्छा वैसे आपके पति कहा है, वो दिख न्ही रहे कही ?

मनीषा – वो किसी फ़ार्मा कंपनी की मीटिंग मे गये है, करीब 3 घंटे तक आएगें.

उसकी ये बात सुन कर मैं परेशानी मे आ गया, की अब मैं क्या करूँ. कॉंडम मांगू तो कैसे मांगू.

मनीषा – अरे आप इतना क्यो परेशान हो रहे हो ? आपको कॉंडम ही लेना है ना ?

मनीषा मुझे देख कर मुस्कुराते हुए फिर से बोली – मुझे पता है, मेरे पति आपको कॉंडम ही देते है. अब बता दो आपको कौन सा ब्रांड का चाहिए.

अब मेरी शरम साइड मे चली गई और बोला – मा*##@ ट्रिपल जे एक्सट्रा डोटेड.

मनीषा मेरा वाला ब्रांड इधर उधर देखने लग गई, और थोड़ी देर बाद बोली – सॉरी वो शायद ख़तम हो गया है, आप कोई और ले लीजिए.

मैं – सॉरी मैं वो ही यूज़ करता हूँ.

मनीषा – वैसे भी ये वाला किसी किसी को पूरा आता है.

मैं – पर मेडम ये ही एक ऐसा कॉंडम है, जो मुझे पूरा फिट आता है.

मनीषा – क्या आपका इतना बड़ा है, ये मैं न्ही मानती.

मैं – अगर आपको सबूत चाहिए तो आपको खुद देखना होगा.

मनीषा – अगर ऐसी बात है, तो अगर आपको ये कॉंडम पूरा आ गया. तो मैं पूरी लाइफ के लिए ये कॉंडम आपको फ्री मे दूँगी.

मैं – कोई बात न्ही, अब बताइए मैं आपको कहाँ पर डाल कर दिखा सकता हू?

मनीषा – देखिए कल सनडे है और मेरे पति को कल भी पूरे दिन के लिए बाहर जाना है. तो आप कल 11 बजे मेरे घर आ जाना.

मैं – ओके कोई बात न्ही.

उसने मुझे अपने घर का अड्रेस्स समझा दिया और फिर मैं घर वापिस आ गया. खैर मुझे आज कॉंडम तो न्ही मिले थे. पर मैने रात को अपनी वाइफ को बिना कॉंडम से बहुत चोदा. मैने उसकी चूत का भोसड़ा बना दिया. मुझे अच्छे से पता था अब 15 दिन तक मेरी वाइफ मुझे याद करेगी.

अगली सुबह 9 बजे मैं अपनी वाइफ को कार मे बिठा कर उसे बस स्टॅंड तक ले गया. वाहा मैने उसे बस मे बिठा कर अलविदा किया और फिर सीधा मनीषा के घर चला गया. उसका फ्लॅट था, मुझे डर लग रहा था की कही आस पास का कोई देख ना ले.

खैर मैं हिम्मत करके उसके फ्लॅट पर आ गया. मैने बाहर से डोर बेल बजाई. थोड़ी ही देर मे मनीषा ने दरवाजा खोला, उसने वाइट कलर की मॅक्सी डाली हुई थी. और रेड कलर की लिपस्टिक और आँखो के नीचे काजल लगाया हुआ था.

वो बेहद खूबसूरत लग रही थी, उसको देख कर मेरा लंड खड़ा होने लग गया. मैं उसे उपर से लेकर नीचे तक अच्छे से देख रहा था. मेरी नज़र उसके बूब्स पर आ कर रुक गई. मैं उसके बूब्स देख रहा था और फिर वो बोली.

मनीषा – बस करो अब देखते ही रहोगे या अंदर भी आओगे ?

मनीषा की बात सुन कर मैं अंदर चला गया, अंदर जा कर मैं सोफे पर बैठ गया. मनीषा मेरे लिए अंदर से पानी का ग्लास ले कर आई. मैने पानी पिया और वो मेरे साथ ही बैठ गई.

मनीषा – अच्छा बताओ मैं आज कैसी लग रही हूँ ?

मैं – बहुत सुंदर लग रही हो, पर सच कहूँ तो तुम साड़ी मे बेहद सेक्सी और हॉट लगती हो.

मनीषा – अच्छा वैसे तुम्हारी वाइफ ने पूछा न्ही, की तुम सनडे वाले दिन काहा जा रहे हो ?

मैं – वो तो 15 दीनो के लिए अपने घर गई है.

मनीषा – तो फिर रात को बेचारी का बॅंड बजा दिया होगा आपने तो. अच्छा आप बैठो मैं अभी आती हूँ.

फिर मनीषा अपने रूम मे चली गई और मैं बैठ कर टीवी देखने लग गया. करीब 20 मिनिट बाद पीछे से उसने मुझे आवाज़ मारी और बोली – अच्छा जी अब बताओ मैं कैसी लग रही हूँ ?

मनीषा ने पिंक कलर की साड़ी और ब्लाउस डाला हुआ था, ब्लाउस तो बहोट ही कमाल का था. विदाउट स्लीव और डीप नेक का उसका ब्लाउस था. उसके बूब्स आधे से ज़्यादा बाहर दिख रहे थे. उपर से उसका गोरा जिस्म देख कर मैं पागल हो रहा था.

मनीषा – अब बताओ मैं केसी लग रही हूँ.

मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था, मैं उसके पास उठ कर गया और उसे अपनी बाहों मे ले कर धीरे से उसे काहा – इससे ही पूछ लो ना केसी लग रही हो.

ये सुनते ही उसने मेरा लंड अपने हाथ मे ले लिया और पेंट के बाहर से ही मेरे लंड को मसलने लग गई. फिर उसने मुझे किस किया और साथ साथ मेरे लंड को मसलती रही.

मनीषा – ये कह रहा है, की मैं बहुत अच्छी लग रही हूँ.

मैं – ये सच बोल रहा है.

फिर हम दोनो ने एक दूसरे के कपड़े निकालने शुरू कर दिए. कुछ ही देर मे वो ब्रा और पेंटी मे आ गई. मैं नीचे बैठ कर उसके सेक्सी पेट को अपनी जीब से चाटने लग गया.

फिर उसने मुझे खड़ा किया और बेडरूम मे ले गई. वाहा जाते ही मैने उसकी ब्रा को खींच कर फाड़ दिया. मेरे सामने उसके बूब्स आ गये, जिसे मैं ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गया.

इतने मोटे बूब्स मेरी वाइफ के भी न्ही थे. इसलिए मैं दोनो बूब्स को बहुत ही मस्ती से चूस रहा था. फिर मैं नीचे गया और उसकी पेंटी को भी फाड़ कर उसकी चूत को सूंघने लग गया

मनीषा ने मेरे आने से पहले ही चूत को शेव कर लिया था. उसकी चूत पर एक भी बाल न्ही था. फिर मैने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया, उसकी चूत का स्वाद बहुत ही मस्त था.

मैं ज़ोर ज़ोर से उसकी चूत को चाट चाट कर स्वाद लेने लग गया. कुछ ही देर मे उसकी चूत का पानी निकल गया. फिर वो खड़ी हुई और मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसने लग गई. वो मेरे लंड को देख कर बोली.

मनीषा – मुझे लगता है आज मैं शर्त हार जाउंगी. पर ऐसा मस्त लंड मैने आज तक न्ही देखा. आपकी वाइफ सच मे बहुत किस्मत वाली है.

अब मुझसे और न्ही रुका गया और उसको बेड पर लेटा कर उसकी दोनो टाँगो के बीच मैं बैठ गया. अब मैं लंड को चूत मे डालने वाला था, तभी मुझे मनीषा रोका और बोली.

मनीषा – रूको ये कॉंडम तो लगा लो, भूलो मत इसी कॉंडम की वजह से आज तुम मेरे पास आए हो.

मैं – हा ज़रूर आप ही अपने हाथ से डाल दो.

फिर मनीषा ने मेरे लंड पर कॉंडम लगाना शुरू किया और देखते ही देखते 8.5 इंच का कॉंडम पूरा मेरे लंड पर आ गया. ये देख कर मनीषा की आँखें फटी की फटी रह गई.

फिर मैने उसकी दोनो टाँगे उपर उठाई और अपना लंड उसकी चूत मे उतार दिया. लंड काफ़ी बड़ा था उसके लिए, इसलिए उसे काफ़ी दर्द हो रहा था. पर मैने उसके बूब्स चूस कर उसका दर्द कम किया.

जब उसका दर्द कम हुआ तो मैने चुदाई शुरू कर दी. उसकी चूत मे मैने अपना पूरा लंड उतार दिया. उसकी तो जान निकल गई, पर अब कुछ न्ही हो सकता था. अब मैने बेदर्द वाली चुदाई शुरू कर दी.

अब मनीषा भी मेरे लंड के उपर बैठ कर मेरे लंड के पूरे मज़े ले रही थी. कसम से उसकी टाइट चूत को खोलने मे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैने कॉंडम उतार कर अपना लंड उसके मूह मे डाल दिया

मेरे लंड ने अपना सारा पानी उसके मूह मे भर दिया. मनीषा ने भी मेरा सारा पानी पी लिया. फिर मैने उस दिन उसे 4 बार जम कर चोदा. फिर मैने अपने कपड़े डाले और अपने घर आ गया.

उस दिन के बाद हम दोनो 10 -15 दीनो मे एक बार सेक्स कर लेते है. दोस्तो ये थी मेरी एक सच्ची कहानी, मुझे उमीद है आपको मेरी ये कहानी पसंद आई होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *